images 36

कपिल सिब्बल ने कहा, “राहुल गांधी कहते हैं कि हमारी बीजेपी के साथ मिली भगत है.

कांग्रेस की कमान को लेकर नई दिल्ली में सोमवार को कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक शुरू हई.

इस बैठक के शुरू होते ही कांग्रेस की आपसी कलह सतह पर आ गई है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ राहुल गांधी ने इस बैठक में कहा था कि जिन कांग्रेस नेताओं ने पार्टी में सुधार के लिए सोनिया गांधी को पत्र लिखा है उनकी बीजेपी से साँठ-गाँठ है.

राहुल की इस कथित टिप्पणी पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट कड़ी आपत्ति जताई है.

कपिल सिब्बल ने कहा, ””राहुल गांधी कहते हैं कि हमारी बीजेपी के साथ मिली भगत है. राजस्थान हाई कोर्ट में कांग्रेस का सफलता पूर्वक बचाव किया. मणिपुर में बीजेपी की सरकार गिराने के लिए पार्टी का बचाव.

पिछले 30 साल में कभी भी किसी भी मुद्दे पर बीजेपी के पक्ष में बयान नहीं दिया. फिर भी हमारी बीजेपी के साथ मिली भगत हैं!”

कपिल सिब्बल की इस टिप्पणी को रीट्वीट करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है कि मीडिया में राहुल गांधी को लेकर जो बात कही जा रही है वो बात उन्होंने नहीं कही है.

सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में लिखा है, ”राहुल गांधी ने ऐसा कुछ भी नहीं कहा है. इस संदर्भ में कोई बात नहीं हुई है. कृपया फ़र्ज़ी मीडिया रिपोर्ट से भ्रमित ना हों या फिर ग़लत सूचना न फैलाएं. हाँ, यह ज़्यादा ज़रूरी है कि क्रूर मोदी शासन के ख़िलाफ़ एकजुट होकर लड़ें न कि आपस में ही भिड़ते रहें.

उम्मीद की जा रही है कि इस बैठक में सोनिया गांधी इस्तीफ़े की पेश कर कर सकती है.

पार्टी नेतृत्व के मुद्दे पर पार्टी बँट गई है. एक धड़ा जहाँ सामूहिक नेतृत्व की मांग कर रहा है तो वहीं दूसरा धड़ा नेहरू-गांधी परिवार में अपना विश्वास फिर से जता रहा है.

समाचार एजेंसी पीटीआई से सूत्रों ने बताया है कि सोनिया गांधी इस बैठक में अपने इस्तीफ़े की पेशकश कर सकती हैं.

क़रीब 20 नेताओं ने उनसे पूर्णकालिक अध्यक्ष बनने की मांग करते हुए पत्र लिखा है. पत्र में इसके अलावा पार्टी के अंदर ऊपर से नीचे कई तरह के बदलावों की मांग रखी गई है.

केसी वेणुगोपाल के बैठक शुरू करने के बाद सोनिया गांधी अपनी बात रखने वाली हैं.

कांग्रेस नेतृत्व में बदलाव की इस मांग के बाद रविवार को कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता गांधी परिवार के समर्थन में आ गए.

Leave a Reply

Loading...