20201218 224805

उत्तर प्रदेश के हाथरस में सितंबर में एक दलित युवती के साथ कथित सामूहिक बलात्कार

director group

हाथरस: उत्तर प्रदेश के हाथरस में सितंबर में एक दलित युवती के साथ कथित सामूहिक बलात्कार और दरिंदगी की खबर ने देशभर में बवाल मचा दिया था। अब इस मामले पर सीबीआई ने अपनी रिपोर्ट अदालत में पेश की है, जिसमें चारों आरोपियों पर सामूहिक बलात्कार और हत्या का आरोप लगाया गया है।

CBI ने आरोपियों के खिलाफ SC/ST (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत आरोप भी लगाए हैं। जांच एजेंसी ने दिल्ली के लगभग 200 किलोमीटर दूर हाथरस में एक अदालत के समक्ष अपना आरोप पत्र दायर किया।

20 वर्षीय दलित युवती का कथित रूप से हाथरस में तथाकथित उच्च जाति के चार लोगों ने 14 सितंबर को बलात्कार किया था।

बाद में दिल्ली के एक अस्पताल में उसकी मौत हो गई। 30 सितंबर को पीड़िता का उसके घर के पास अंतिम संस्कार किया गया।

उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा मामले को संभालना के चक्‍कर में परिवार की मंजूरी के बिना पीड़िता का देर रात अंतिम संस्कार कर दिया गया था, जिस कारण देश भर में बवाल मच गया था। हालांकि, अधिकारियों ने बाद में कहा कि अंतिम संस्कार “परिवार की इच्छा के अनुसार” किया गया था।

अक्टूबर में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) द्वारा की गई जांच की निगरानी इलाहाबाद उच्च न्यायालय करेगा।

मुख्य आरोपी ने जेल से उत्तर प्रदेश पुलिस को लिखा था, जिसमें दावा किया गया था कि उसे और तीन अन्य आरोपियों को मामले में फंसाया जा रहा है और चार लोगों के लिए “न्याय” की मांग की गई है। उन्होंने महिला की मां और भाई पर उसे प्रताड़ित करने का भी आरोप लगाया। महिला के परिवार ने इन आरोपों से इनकार किया है।

इस सप्ताह की शुरुआत में सीबीआई ने अपनी जांच को समाप्त करने के लिए और समय मांगा, जिसके बाद बुधवार को इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ बेंच ने मामले में सुनवाई की अगली तारीख 27 जनवरी तय की।

Leave a Reply

Loading...