बेरोजगार ने किया भोपाल में हंगामा, कांग्रेस समर्थक बेरोजगार ने भी दिया साथ

आपको मालूम ही होगा लॉकडाउन के बाद बहुत ज्यादा बेरोजगारी भारत में बढ़ चुकी है एक अनुमान भी लगाया जाए तो यह बहुत ज्यादा संख्या वाली बात होगी सबको मालूम है कि बेरोजगारी किधर है भारत में बढ़ती जा रही है अब हम आपको बता दें कि मध्यप्रदेश में भी बेरोजगारी की चरम सीमा पर पहुंच चुकी है आपको पता ही होगा कांग्रेस के मुख्यमंत्री रह चुके कमलनाथ ने बेरोजगारों को भत्ता देने की बात कही थी लेकिन चुनाव के बाद में मुकर गए अब बात आ रही है शिवराज सिंह चौहान पर तो अब कांग्रेस के कुछ विधायक और कुछ कांग्रेस समर्थक बेरोजगार रोजगार के लिए भर्तियां निकाली जाए। रोशनपुरा चौराहे पर एक हजार से अधिक युवकों ने की मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी।चक्काजाम करने पर लाठीचार्ज, आधा सैकड़ा लड़के-लड़कियों को गिरफ्तार। राजधानी के रोशनपुरा चौराहे पर मप्र बेरोजगार संघ एवं शिक्षक पात्रता संघ के आह्वान पर शुक्रवार को इकट्ठा हुए लगभग एक हजार से अधिक बेरोजगार युवकों ने जमकर हंगामा किया। यह सभी बेरोजगार भर्ती दो या अर्थी दो की मांग कर रहे थे। कोई सुनवाई नहीं होने पर मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सड़क पर बैठ गए थे। चक्काजाम करते हुए इन युवाओं ने सरकार से रोजगार दिए जाने की मांग की। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लड़के लड़कियों पर लाठीचार्ज कर खदेड़ दिया। प्रदर्शन की अनुमति नहीं होने और जबर्दस्ती करने के कारण इसमें लगभग आधा सैकड़ा लड़के व लड़कियों को गिरफ्तार भी किया गया है।

पुलिस विभाग सहित लंबे समय से किसी भी विभाग में भर्ती नहीं होने के साथ ही शिक्षक भर्ती की तीन वर्ष से प्रक्रिया पूरी नहीं होने के कारण शिक्षित बेरोजगारों में रोष है। इस गुस्से को लेकर कोरोना संक्रमण की परवाह किए बगैर आज एक हजार से अधिक युवा राजधानी पहुंच गए हैं। इस प्रदर्शन के लिए संघों ने शासन-प्रशासन से अनुमति मांगी थी, लेकिन कोरोना के कारण अनुमति नहीं दी गई। इसके बाद भी यह युवा भोपाल पहुंच गए हैं। पुलिस का कहना है कि बिना अनुमति आए इन युवकों से ज्ञापन लेकर इन्हें जाने के लिए कहा गया, लेकिन जब यह नहीं गए तो बल प्रयोग और गिरफ्तारी करना पड़ी है। वहीं प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाए कि पुलिस ने उन पर जानबूझकर लाठीचार्ज किया है। प्रदर्शन की जानकारी पहले से ही पुलिस प्रशासन को दे दी गई थी। हम सामान्य प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने हमें पीटा है। कई लोगों को चोटें भी आई हैं।
यह हैं बेरोजगारों की मांगें

-पुलिस विभाग में सब इंस्पेक्टर के 1500 व आरक्षक के 15000 पदों के लिए वैकेंसी निकाली जाए।
-आवेदन के लिए उम्र 37 वर्ष की जाए।
-पीएचक्यू के बजाय पीईबी के माध्यम से भर्ती परीक्षा कराई जाए।
-पुलिस, शिक्षा, राजस्व सहित अन्य शासकीय विभागों में वैकेंसी निकाली जाए।
-स्कूल शिक्षा विभाग एवं आदिम जाति कल्याण विभाग से स्थाई शिक्षकों के रिक्त पदों में वृद्धि कर भर्ती शीघ्र अति शीघ्र की जाए।
-स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति में सुधार किया जाए एवं रिक्त पदों में वृद्धि की जाए।
-प्रदेश के मूल-निवासियों को समस्त शासकीय सेवाओं में प्राथमिकता प्रदान की जाए।

Leave a Reply

Loading...