जनता कर्फ्यू

जनता कर्फ्यू कब तक रहेगा ? मतलब?प्रतिज्ञा प्रमाण पत्र ?

जनता कर्फ्यू जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू है शब्दावली का प्रयोग प्रथम बार भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2020 में फैली कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान गुरुवार 19 मार्च 2020 के रात 9:00 बजे जनता कर्फ्यू का ऐलान किया गया था। अपने संबोधन में उन्हें भारत की जनता से आग्रह किया कि वह 22 मार्च को अपने घरों से बाहर ना निकले उन्होंने कहा आने वाले रविवार 22 मार्च को सभी सुबह 7:00 बजे से 9:00 बजे तक अपने घरों में ही रहे जनता कर्फ्यू का पालन करें संता कर्फ्यू को उन्होंने जनता के लिए जनता के द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू कहकर परिभाषित किया है । Read https://directordada.com/news/news-india/kaise/what-is-life-imprisonment-in-hindi-2020/

जनता कर्फ्यू कब तक रहेगा?

उन्होंने देशवासियों से आग्रह किया कि जरूरी सुविधाओं वाले नागरिकों के अलावा कोई भी घर से बाहर निकल कर अनावश्यक ना घूमें जनता कर्फ्यू इंग्लिश लगदा उनसे भिन्न है ।जनता कर्फ्यू व्यक्ति पर अनिवार्य नहीं जबकि शासन द्वारा लाग डाउन जनता पर आरोपित किया जाता है ।तथा जनता द्वारा इसका पालन करना अनिवार्य है करुणा का संकट को खत्म करने के लिए 14 घंटे का जनता कर्फ्यू का पालन करें अपने घरों में ही रहे देशवासियों से घरों में रहने की अपील देश में बड़े करोना संक्रमित बता दे ।कि जनता कर्फ्यू मैं आपको कुछ नहीं करना यही आपके लिए सबसे बड़ा एक काम है ।14 घंटा अपने घरों में कैद रहना ही जनता कर्फ्यू की सबसे बड़ी चुनौती है आपको घर में रहना है और घर से बाहर निकलने से बचना है ।

जनता कर्फ्यू का मतलब?

जनता कर्फ्यू

जनता का जनता के लिए जनता के द्वारा लागू इस यू का मकसद है । कोरोनावायरस कोविड-19 की चेन को तोड़ना समुदायों के बीच फैलने से रोकना लोग अपने घरों से कम निकलेंगे उतना ही लोग एक दूसरे से कम मिलेंगे और यह संक्रमण फैलने से बचेंगे इसलिए जनता कर्फ्यू को लागू किया गया है ।

जनता कर्फ्यू कब तक रहेगा
Loading...